मार्च 08, 2012

रमिया का एक दिन.... (महिला दिवस के बहाने)


झोंपड़ी के टूटे टाट से
धूप की एक नन्ही किरण
तपाक से कूदी है
कच्ची अंधेरी कोठरी में
हो गई है रमिया की सुबह
दुधमुंहा बच्चा कुनमुनाया है
रमिया ने फिर उसे
थपकी देकर सुलाया है।
सूख चुका है पतीले और सीने का दूध।
रात को भरपेट नमक भात खाकर तृप्त सोए हैं
मंगलू और रज्जी।

कोने में फटे बोरे पर
कोई आदमी नुमा सोया है।
जिसके खर्राटों में भी दारू की बू है
मगर इस बार उसने
बड़ी किफ़ायत से पी है।
हफ्ते पुरानी बोतल में
नशे की आखिरी कुछ घूंट
अब भी बची है।

आज मंगलवार है,
हफ्ते भर रमिया की उंगलियों और
चाय की पत्तियों की जुगलबंदी
आज उसके आंचल में कुछ सितारे भरेगी।
जिनसे रमिया की दुनिया में
एक और हफ्ते रोशनी होगी
एक और हफ्ते बच्चों को मिलेगा
दो वक्त पेट भर खाना
एक और हफ्ते ख़ुमार में रह पाएगा
रमिया का पति

और रमिया का क्या?
एक और पैबंद की मांग करने लगी है
उसकी सात पैबंदों वाली साड़ी
अब तो सुई-धागे ने भी विद्रोह कर दिया है।
आज रमिया ने ठान ही लिया है
शाम को वह जाएगी हाट
और खरीदेगी पैंसठ वाली फूलदार साड़ी
दस के बुंदे
और एक आईना।
नदी के पानी में शक्ल देखकर
बाल संवारती रमिया
अपनी पुरानी शक्ल भूल गई है।

इतराती रमिया ने आंगन लीप डाला है
आज वह गुनगुना रही है गीत।
उसके पपड़ियाए होंठ
अचानक मुस्कुराने लगे हैं।
साबुन का एक घिसा टुकड़ा
उसने ढूंढ निकाला है।
फटी एड़ियों को रगड़ने की कोशिश में
खून निकल आया है।
लेकिन रमिया मुस्कुरा रही है।
बागान की ओर बढ़ते उसके पांवों में
जैसे पंख लगे हैं।
आज सूरज कुछ मद्धम सा है
तभी तो जेठ की धूप भी
चांदनी सी ठंडी है।

पसीने से गंधाते मजदूरों के बीच
अपनी बारी के इंतज़ार में रमिया
आज किसी और दुनिया में है।
उसकी सपनाई पलकों में चमक रहे हैं,
पीली जमीन पर नीले गुलाबी फूल
बुंदों की गुलाबी लटकन।
पैसे थामते उसके हाथ
खुशी से सिहर से गए हैं।
और वह चल पड़ी है
अपने फीके सपनों में
कुछ चटख रंग भरने।

उसके उमगते पांव
हाट में रंगबिरंगे सपनों की दुकान पर रुके हैं।
उसकी पसंदीदा साड़ी
दूसरी कतार में टंगी है।
उसने छूकर देखा है उसे, फिर सूंघकर।
नए कपड़े की महक कितनी सौंधी होती है न?
रोमांच से मुंद गई है उसकी पलकें
कितना मखमली है यह एहसास
जैसे उसके दो महीने के बेटे के गुदगुदे तलवे
और तभी उसकी आंखों के आगे अनायास उभरी हैं
घर की देहरी पर टंगी चार जोड़ी आंखें।

रमिया के लौटते कदमों में फिर पंख लगे हैं
उसे नज़र आ रहे हैं दिन भर के भूखे बच्चे
मंगलू की फटी नेकर
गुड़ियों के बदले दो महीने के बाबू को चिपकाए
सात साल की रज्जी
शराबी पति की गिड़गिड़ाती आंखें
उसने हाट से खरीदा है हफ्ते भर का राशन
थोड़ा दूध, और दारू की एक बोतल।
मगर अबकी उसका इरादा पक्का है,
अगले मंगलवार जरूर खरीदेगी रमिया
छपे फूलों वाली साड़ी और कान के बुंदे।

60 टिप्‍पणियां:

  1. ...जाने वह मंगल कब आएगा ?
    रमिया को कुछ तो बदलना होगा,
    नहीं तो उसके नथुनों में दारू की गंध
    यूँ ही समाएगी,
    बच्चों की आँखें
    आसमान की ओर ताकेंगी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मगर अबकी उसका इरादा पक्का है,
    अगले मंगलवार जरूर खरीदेगी रमिया
    छपे फूलों वाली साड़ी और कान के बुंदे।

    बहुत सुंदर प्रस्तुति,बेहतरीन पोस्ट
    होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...

    RECENT POST...काव्यान्जलि
    ...रंग रंगीली होली आई,

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही बढ़िया
    आपको महिला दिवस और होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. सशक्त प्रस्तुति....
    वो सुबह कभी तो आयेगी....
    इसी उम्मीद से शुभकामनाये प्रेषित करती हूँ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया। आप सभी को भी होली की शुभकामनाएं। महिला दिवस तब तक सार्थक नहीं हो पाएगा, जब तक कि हम सिर्फ कामयाब महिलाओं की उपलब्धियां ही नहीं गिनाएंगे, बल्कि रमिया जैसी महिलाओं को भी सम्मान देंगे, जो वास्तविक शक्तिरूपा हैं, विपरीत परिस्थितियों में भी कभी उम्मीद का दामन नहीं छोड़तीं...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी रचना!

    महिला दिवस की बधाईयाँ..

    होली मुबारक!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रभावित करते भाव...... शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..होली की शुभकामनायें..मेरे ब्लॉग filmihai.blogspot.com पर स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावपूर्ण रचना, सच में ऐसी रचनाएं कभी कभी पढने को मिलती है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. रमिया का दर्द बखूबी उकेरा है आपने। मार्मिक कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या कहूँ ...रमिया के बहाने एक पूरी जिंदगी दर्दनाक दास्ताँ है आपकी ये कविता ...धन्यवाद ऐसी कवितायेँ लिखने के लिए ... बहुतों का दर्द है इसमें !..शायद मेरा बचपन भी है कहीं आपकी कविता में...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया आनंद जी कि यह कविता आपको अपनी सी लगी।
      यही समानुभूति तो हमें इनसान बनाए रखती है...
      ..मैं दार्जिलिंग के एक चाय बागान से ही दिल्ली तक पहुंची हूं, इसलिए बहुत सी रमिया बचपन से देखने को मिलीं, जो कभी कभी कविताओं में उतर जाया करती हैं।

      हटाएं
  12. थोड़ा दूध, और दारू की एक बोतल।
    मगर अबकी उसका इरादा पक्का है,
    अगले मंगलवार जरूर खरीदेगी रमिया
    छपे फूलों वाली साड़ी और कान के बुंदे।
    NICE POST WITH SOFT AND WORM FEELINGS
    BASED IN SMELL OF EARTH.

    AAPAKE IS NARM KINTU GARM AIHASAS KO PRANAM

    उत्तर देंहटाएं
  13. sashakt rachna. sapno ka tootna fir bhi sapne dekhna shayad zindagi yahi hai. mahila diwas ki shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छा लिखा है आपने...
    रचना का एक एक शब्द झकझोड़ कर रख देता है.....

    बेहद सार्थक रचना...
    शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  15. .

    बहुत प्रभावशाली रचना है ।
    एक एक शब्द निःशब्द करता हुआ…
    बधाई सहित आभार !

    महिला दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    साथ ही
    स्वीकार करें मंगलकामनाएं आगामी होली तक के लिए …
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    ****************************************************
    ♥होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार !♥
    ♥मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !!♥


    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    ****************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥

    उत्तर देंहटाएं
  16. रमिया जैसे कितनी ही हैं जो चीख चीख के कह रही हैं की क्या एक दिन से ये दर्द मिटने वाला है ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. पढ़ने के बाद से दिमाग़ में लगातार कुछ चल रहा है, सोच में कुछ पिघल रहा है... बधाई!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. kya kahu ki kya likha hai....sach bah raha hai kavita se....pahli baar padha or mureed ho gayi apki...:)...Umda...bahut umda

    उत्तर देंहटाएं
  19. रमिया की व्यथा को आपने सटीक शब्दों में रूपांतरित कर दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. bahut sunder ....
    mera bhi bachpan chay baganon mein bita hai ....
    sunder chitran kiya hai bagan jan jivan ka ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सामयिक और सार्थक पोस्ट, आभार.

      मेरे ब्लॉग meri kavitayen पर आपका हार्दिक स्वागत है, कृपया पधारें.

      हटाएं
  21. बहुत बढिया ...मन के अंदर तक पहुच गई रचना

    जितना कहा जाय कम है

    उत्तर देंहटाएं
  22. शायद वह मंगलवार अगले मंगल को भी न आए। पर रमिया के घर में रमिया वापस लौट चुकी है, और रमिया जब वहां है तो वह घर घर है, न सिर्फ़ रमिया का मेरा भी, हमारा भी।

    दीपिका जी लाजवाब। कुछ है जो आपको ब्लॉगजगत के आम कवियों से अलग करता है।

    रमिया के माध्यम से अशक्त, असहाय लोगों पर लिखी यह कविता काफी मर्मस्पर्शी बन पड़ी है । ये करूणा के स्वर नहीं है । ऐसी निरीह, विवश, और अवश अवस्था में भी उनके संघर्षरत छवि को आपने सामने रखा है । यह प्रस्तुत करने का अलग और नया अंदाज है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया मनोज जी। विपरीत परिस्थितियों में भी हौसला न छोड़ना ही तो जीवन है..

      हटाएं
  23. आपकी रचना ने आपको फोलो करने पर विवश कर दिया.. बहुत सुन्दर रचना
    --सुनहरी यादें--

    ---------------------------------

    उत्तर देंहटाएं
  24. दीपिका जी
    नमस्कार !
    .....रचना का हर शब्द झकझोड़ रहा है
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  25. यह रमिया आपको हर गाँव में शहर में मिल जायगी बहुत ही अच्छी रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  26. aapki ramiya apni si lagi....man ko chhu gai aapki kavita aur ramiya....shandaar prastuti...badhai

    उत्तर देंहटाएं
  27. प्रेमचंद यदि कवि होते तो शायद इसी तरह की जीवंत कविताएं रचते..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रेमचंद तो एक संस्थान बन चुके हैं.. वैसी सामाजिक संवेदनशीलता अब कहां... कविता आपको पसंद आई, इसके लिए धन्यवाद गौतम जी..

      हटाएं
  28. एक और पैबंद की मांग करने लगी है
    उसकी सात पैबंदों वाली साड़ी
    अब तो सुई-धागे ने भी विद्रोह कर दिया है।
    रचना पढ़ते वक़्त रमिया चलचित्र की भांति घुमती सी प्रतीत होती है .
    सुन्दर लेखन

    उत्तर देंहटाएं
  29. खटे सदा रमिया मगर, मिया बजाएं ढाप ।
    तन मन को देती जला, रहा दूसरा ताप ।

    रहा दूसरा ताप, हाथ पे हाथ धरे है ।
    जीवन का अभिशाप, मगर ना आह करे है ।

    रमिया दारु लाय, पिलाती नाग नाथ को ।
    साड़ी अगली बार, मीसती चली हाथ को ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह! इस काव्यात्मक टिप्पणी के लिए धन्यवाद

      हटाएं
    2. यह गूगल का ही कोई कारनामा है.. ब्लॉग में मार्च से अचानक फॉलोवर गैजेट दिखना बंद हो गया। कुछ पता चलते ही बताती हूं। यदि आपमें से किसी को इस बारे में कोई जानकारी हो, तो कृपया बताएं।

      हटाएं
    3. फिलहाल आप फीडरीडर का उपयोग कर सकते हैं।

      हटाएं
  30. न जाने कितने मंगलवार निकाल जाएंगे और रमिया के सपने बस सपने ही रह जाएंगे ... फिर भी उसका हौसला टूटा नहीं है ... ज़िंदगी से जद्दोजहद करती रमिया का सशक्त चित्रण किया है ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. आपके शब्दों में एकदम ज़मीनी खुशबू है,
    सुन्दर, और संजीदा भी!
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  32. इतिहास और वर्तमान को समेटे आपकी यह पोस्ट निश्चित रूप से प्रभावशाली है ...!

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुन्दर प्रस्तुति.....बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  34. कमाल की अभिव्यक्ति .........
    प्रभावशाली ..

    उत्तर देंहटाएं
  35. प्रभावशाली रचना....
    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  36. अगले मंगलवार जरूर खरीदेगी रमिया
    छपे फूलों वाली साड़ी और कान के बुंदे।
    rachana ki shandaar samapti .

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत सुंदर प्रस्तुति***

    उत्तर देंहटाएं
  38. हफ्ते भर रमिया की उंगलियों और
    चाय की पत्तियों की जुगलबंदी
    आज उसके आंचल में कुछ सितारे भरेगी।
    क्या अंदाज़ है आपके बात कहने का ! शब्द चित्र बन गए हों जैसे । विशेषणों और बिम्बों ने इन चित्रों में क्या खूब रंग भर दिए हैं । कमाल की अभिव्यक्ति -क्षमता। बिम्बों में, संकेतों में बातें कहना, बहुत खूब ! अवचेतन में बसे चाय के बागान उतर आए हैं आपकी कविता में। एक प्रभावशाली रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत सुन्दर रचना...पहली बार आपके ब्लॉग पर आया.. बहुत अच्छा लगा.

    aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  40. क्या सच को उकेरा है इस कविता के जरिये..
    दूसरों की ख़ुशी की खातिर अपने आज का स्वाहा करती एक और महिला का जानदार वर्णन!

    उत्तर देंहटाएं
  41. कविता के माध्यम से यथार्थ का सुन्दर वैचारिक प्रस्तुतिकरण...

    हार्दिक शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  42. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    इस मार्मिक लेकिन कटु यथार्त को व्यक्त करती इस रचना के लिए बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  43. बस यूहीं ज़िन्दगी तमाम होती जाती है ...सपने की किरमिच आँखों में किरकिराती रहती है....और सपने हैं की उगते रहते हैं ...बहुत मर्मस्पर्शी रचना ..
    सच... दिलको छू गयी !

    उत्तर देंहटाएं
  44. अपना और अपना जीवन , जो बेवस है , लाचार है ! उनकी सुध किसको है ! सुन्दर अनुभूति !

    उत्तर देंहटाएं
  45. रमिया का आत्मविश्वास ही उसका दर्द है जहाँ घर में एकमात्र कमाउ सदस्य स्त्री है
    मजदूरों की कई बस्तियों में अपने पति के नशे का जुगाड़ करती रमिया अपना बदन नहीं ढंक पा रही
    बधाई ऐसी सशक्त रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  46. हफ्ते भर रमिया की उंगलियों और
    चाय की पत्तियों की जुगलबंदी

    Sundar!

    उत्तर देंहटाएं